हाइजीनिक फूड रेटिंग में जिला सिरमौर प्रदेश में आया नंबर वन

95 फ़ीसदी हासिल किया टारगेट, शक्तिपीठों का भोग भी एफएसएसएआई से प्रमाणित

HNN / नाहन

फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया के द्वारा प्रदेश के 12 जिलों की करवाई गई हाइजीनिक रेटिंग में जिला सिरमौर ने बाजी मारी है। जबकि हाइजीनिक रेटिंग में दूसरे नंबर पर सोलन तथा तीसरे पर मंडी और कांगड़ा को स्थान मिला है। बड़ी बात तो यह है कि जिला में 2 में से केवल एक ही फूड सेफ्टी ऑफिसर है बावजूद इसके जिला सिरमौर खाद्य सुरक्षा विभाग में 95% ऑडिट टारगेट अचीव किया है। कहा जा सकता है कि जिला सिरमौर के प्रमुख संस्थान खाद्य सुरक्षा की दृष्टि से पूरी तरह सुरक्षित है।

यही नहीं एफएसएसएआई द्वारा अधिकृत एजेंसी के सर्वे में त्रिलोकपुर स्थित माता बाला सुंदरी शक्ति पीठ का प्रसाद और भंडारा सामग्री रेटिंग में ए प्लस हासिल करने में कामयाब हुआ है। जिसके बाद माता बाला सुंदरी मंदिर ट्रस्ट के द्वारा दिया जाने वाला भोग अब एफएसएसएआई के द्वारा प्रमाणित हो गया है। इसके अलावा मां भंगायनी देवी हरिपुरधार मंदिर तथा गुरुद्वारा श्री बडू साहिब में दिए जाने वाले भोग यानी प्रसाद का भी हाइजीनिक सर्वे हुआ है जिसकी रिपोर्ट आना अभी बाकी है।

प्रदेश में फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया के द्वारा विभिन्न जिलों के करीब 487 व्यवसायिक संस्थानों की हाइजीनिक रेटिंग हेतु सैंपलिंग की गई थी, जिसमें सबसे ज्यादा सिरमौर जिला ने हाइजीनिक सर्वे रेटिंग पाई है, जिसमें शिमला एम सी के अंतर्गत 11, शिमला रूरल में 22, किन्नौर में 28, कांगड़ा में 50, हमीरपुर में 40, बिलासपुर में 33, कुल्लू में 23, ऊना में 28, चंबा में 35, मंडी में 50, सोलन में 72 तथा सिरमौर खाद्य सुरक्षा विभाग के द्वारा 95 परसेंट टारगेट अचीव किया गया है।

यहां यह भी बता दें कि इस हाइजीनिक रेटिंग में जिला के 70 फ़ीसदी व्यवसायिक संस्थानों को एफएसएसएआई के द्वारा 4 और 5 स्टार रेटिंग दी गई है। जिसके लिए इन संस्थानों को रेटिंग के प्रमाण पत्र भी जारी कर दिए गए हैं। यह तो हुई बात एफएसएसएआई के हाइजीनिक सर्वे रेटिंग की। अब आपको यह भी बता दें कि बीते 3 माह में जिला सिरमौर खाद्य सुरक्षा विभाग के द्वारा नागरिक सुरक्षा को लेकर करीब 54 सैंपल खाद्य पदार्थों के लिए गए थे, जिनमें से 26 सैंपल फेल पाए गए हैं। विभाग जल्द ही इन संस्थानों पर कानूनी शिकंजा भी कसने जा रहा है।

बरहाल, खाद्य सुरक्षा के नजर जिला सिरमौर के फूड सेफ्टी विभाग के द्वारा सैंपल इनके 120 परसेंट टारगेट तथा बीते 3 महीनों में इंस्पेक्शन टारगेट 320 फीसदी अचीव किए गए हैं। कुल मिलाकर कहा जा सकता है कि जिला सिरमौर के होटल और मिठाइयां व अन्य खाद्य आपूर्ति संस्थान खाद्य सुरक्षा के मद्देनजर पूरी तरह सुरक्षित हैं।

उधर, सहायक आयुक्त खाद्य सुरक्षा जिला सिरमौर अतुल कायस्थ ने खबर की पुष्टि करते हुए कहा कि एफएसएसएआई द्वारा अधिकृत एजेंसी के स्वतंत्र ऑडिट में जिला सिरमौर ने 95 प्रमुख व्यवसायिक संस्थानों की हाइजीनिक रेटिंग करवाने में कामयाबी हासिल की है। उन्होंने कहा कि इनमें से करीब 70 फ़ीसदी को फोर ओर फाइव स्टार रेटिंग पर प्रमाणित किया गया है। उन्होंने कहा कि जिला सिरमौर खाद्य सुरक्षा विभाग ना केवल औचक निरीक्षण करता है बल्कि लोगों को जागरूक भी करता है।

लेटेस्ट न्यूज़ एवम अपडेट्स अपने व्हाटसऐप पर पाने के लिए हमारी व्हाटसऐप बुलेटिन सर्विस को सब्सक्राइब करें। सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करें।

वीडियो