हिमाचल में ओलावृष्टि और अंधड़ से सेब सहित प्लम और आडू को भारी नुकसान

HNN/ शिमला

प्रदेश में भारी बारिश और ओलावृष्टि से बागवानी को भारी नुकसान उठाना पड़ा है। मंडी, आनी और रामपुर क्षेत्र में सेब फसल पर ओलों की मार पड़ी है। वहीं, बागवानी क्षेत्र का नुकसान और बढ़ने की आशंका है। उधर, उपमंडल बंजार की पलाहच और शरची पंचायत के करीब दस गांवों में सेब को भारी नुकसान हुआ है। अंधड़ चलने से सेब की 30 फीसदी फल बगीचों में गिर गए।

प्लम, नाशपाती सहित फलों को भी नुकसान हुआ। सेब सीजन से ठीक पहले अंधड़ व बारिश ने बागवानों को बड़ा झटका दिया है। आनी उपमंडल में भी अंधड़ ने खूब तबाही मचाई। उपमंडल की 14 पंचायतों में भारी नुकसान हुआ है। तूफान से उपमंडल की पोखरी, कराड़, मोहाण, टकरासी, बिश्लाधार, दलाश, डिंगीधार, ब्यूंगल, तलूणा, बैहना, जाबण, नम्होंग, कुठेड़ और तांदी पंचायत में सेब की फसल तबाह हो गई।

आनी में एक बागवान के बगीचे से दो से पांच क्विंटल तक सेब की फसल गिर गई। जिला कांगड़ा में तेज तूफान और बारिश से आम, लीची और आड़ू की फसल को काफी नुकसान पहुंचा। मंडी में प्लम और खुमानी के फल झड़ गए हैं। वहीं, प्रदेश के कई क्षेत्रों में मंगलवार को भी बारिश के आसार हैं। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला ने पांच जुलाई तक मौसम खराब बना रहने का पूर्वानुमान जताया है।