नाहन की बेटी भूमिका बनी बीएससी कंप्यूटर साइंस की एसिस्टेंट प्रोफेसर

bhumika from nahan become assistant professor of computer science

bhumika from nahan become assistant professor of computer science

bhumika from nahan become assistant professor of computer science

युवाओं को दी नशे से दूर रहने की हिदायत,कहा अपना लक्ष्य करें निर्धारित,तभी मिलेगी मंजिल

एचएनएन न्यूज। नाहन

अगर मन में दृढ़ इच्छा व लगन हो तो इंसान कोई भी मुकाम प्राप्त कर सकता है। भूमिका का बचपन से ही कालेज में प्रोफेसर बनने का एक सपना था, जिसे उसने पूरा कर दिखाया  है। एसिस्टेंट प्रोफेसर के निकले रिजल्ट में नाहन की बेटी भूमिका ने एचएनएन न्यूज़ को दिए गए बयान में कहा कि उसके माता का सपना था कि उनकी बेटी एक दिन अपने स्वर्गीय पिता का नाम रोशन करेगी। आज मां का वह सपना पूरा हो गया है। नाहन में जन्मी भूमिका ने अपनी जमा दो की पढ़ाई नाहन से की है। भूमिका के पिता स्वर्गीय सिरमौरी लाल का निधन चार साल पहले हो गया था। कालेज कैडर के निकले इस परिणाम में भूमिका जिला सिरमौर से एक मात्र ऐसी अभ्यर्थी है। जो बीएससी कंप्यूटर साइंस की छात्रा थी।

बच्चों की चहेती भूमिका मैडम
नाहन की बेटी भूमिका ने कालेज कैडर से बीएससी कंप्यूटर साइंस में एसिस्स्टेंट प्रोफेसर की परीक्षा पास की है। इससे पहले भूमिका नाहन पीजी कालेज में एसिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर तैनात थी। भूमिका दो साल पांवटा साहिब व दो साल नाहन में इस पद पर कार्यरत थी। बच्चों की फेवरेट भूमिका ने पंजाब विवि से एमसीए की है। जबकि दो बार नेट व एक बार सेट की परिक्षा भी पास की है। सेट में भूमिका ने पूरे प्रदेश में हाईस्ट अंक प्राप्त किए थे। भूमिका एक बार मिस सिरमौर भी रह चुकी हैं। भूमिका को लिखने का शौक भी है। वह कई कविताएं लिख चुकी हैं। कई किताबों में उनकी लिखी कविताएं प्रकाशित भी हुई हैं। उन्होंने नेशनल स्कूल आफ ड्रामा जहां से कई फिल्मी हस्तियां कोचिंग ले चुके हैं। वह से डिप्लोमा प्राप्त किया हुआ है। उन्होंने कहा कि इस इंटरव्यू के लिए उन्हें डा. वेद प्रकाश पटियाल ने तैयारियां करवाई थी।

टाइपिंग करके पूरी की पढ़ाई
भूमिका का कहना है कि पढ़ाई के लिए उन्होंने टाइपिंग वर्क किया है। साथ ही बच्चों को टयूशन भी पढ़ाती थी। नौ साल पहले उनके पिता स्व. सिरमौरी लाल की डेथ हो गई थी। माता सुनीता ने ही उन्हें किसी चीज की कोई कमी आने नहीं दी। उन्होंने कहा कि नॉन मेडिकल से स्नातक की है जबकि इग्रू से बीसीए की है। उन्होंने कहा कि वह बचपन से ही कालेज प्रोफेसर बनना चाहती थी। उन्होंने कहा कि उनकी इस कामयाबी के पीछे उनकी माता, बहन दीक्षा व कालेज के प्रिंसिपल रह चुके दिनेश भारद्वाज ने उनका भरपूर सहयोग दिया। भूमिका ने कहा कि दिनेश भारद्वाज ने ही उन्हें इस कामयाबी के लिए प्रेरित किया। प्रदेश में ऐसी परीक्षा है जिसे देते हुए अभ्यर्थी डरते हैं । मगर मैने हिम्मत नहीं हारी इस कामयााबी को हासिल किया। उनका मानना है कि अगर कोई व्यक्ति अपना भविष्य बनाना चाहता है तो उसे लक्ष्य निर्धारित करना चाहिए। साथ ही दृढ़ संकल्प लेकर उसकी ओर बढऩा चाहिए। उन्होंने युवाओं से आह्वाहन किया है कि वह नशे की आदत से दूर रहे।

Web Title: bhumika from nahan become assistant professor of computer Science

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *