HRTC ढाबों से वसूल रहा गुंडा टैक्स, निजी बस ऑपरेटर संघ ने लगाया आरोप

HNN News/ शिमला

हिमाचल प्रदेश निजी बस ऑपरेटर संघ ने हिमाचल पथ परिवहन निगम द्वारा ढाबों से वसूले जाने वाले 2000 रुपए को गुंडा टैक्स करार दिया है।

संघ के अध्यक्ष राजेश पराशर, महासचिव रमेश कमल, कांगड़ा जिला बस ऑपरेटर यूनियन के प्रधान हैप्पी अवस्थी, मंडी जिला से वीरेंद्र गुलेरिया ने कहा कि जिस ढाबे में हिमाचल प्रदेश पथ परिवहन निगम की बसें रूकती हैं उन ढाबों से हिमाचल पथ परिवहन निगम द्वारा एक बस से 2000 रुपए लिए जाते हैं जबकि ऐसा कोई नियम या कानून नहीं है। वास्तव मे यह फीस नहीं बल्कि निगम द्वारा लिया जाने वाला गुंडा टैक्स है। इन ढाबों में अकसर यात्रियों को गंदा और महंगा खाना खिलाया जाता है।

यही नहीं निगम के चालक और परिचालक भी गुंडा टैक्स वसूल करते हैं। ढाबे पर यह मुफ्त का खाना खाते हैं और ढाबा संचालक इन्हें सिगरेट की डिब्बी के अलावा 100-100 रुपए भी देता है। जिसकी पूरी वसूली वह यात्रियों से करता है। निजी बस ऑपरेटर संघ ने चेतावनी दी है कि अगर इस तरह की वसूली बंद नही की गई तो ऑपरेटर उच्च न्यायालय मे याचिका दायर करेंगे।

ऑपरेटरों का कहना है कि हिमाचल प्रदेश पथ परिवहन निगम द्वारा कानून और मोटर व्हीकल एक्ट का सरेआम उल्लंघन किया जा रहा है। उन्होंने पथ परिवहन निगम के कर्मचारियों तथा तथाकथित नेताओं द्वारा निजी बस ऑपरेटर के खिलाफ की गई टिप्पणी पर कड़ा संज्ञान लेते हुए कहा है कि इन लोगों को मोटर व्हीकल एक्ट की जानकारी नहीं है तो इस तरह की बयानबाजी करने का भी उनको कोई हक नहीं है।