Video/सुकेत वन मण्डल में सेंकडो पेड़ों की बलि दे बिना अनुमति बना डाली सड़क

मामले दबाने में जुटे अधिकारी,2 माह से चला हुआ था अवैध कार्य

HNN News/ सुंदरनगर

सुकेत वन मण्डल के अधीन ज्वाली-पंजोग क्षेत्र में तकरीबन डेढ़ किलोमीटर सड़क का अवैध तौर पर निर्माण और सैकड़ो पेड़ो के अवैध कटान का मामला सामने आया है। हैरानी की बात है कि पिछले 2 महीनों से इस अवैध कार्य को अंजाम दिया जा रहा था लेकिन चंद किलोमीटर दूर बैठे वन अधिकारी आँखे मूंदे रहे।

ऐसे में अंदेशा जताया जा रहा है कि बड़े स्तर की मिलीभगत से इस कार्यो को अंजाम देते हुए सैकड़ों पेड़ो की बलि दे दी गई और बेशकीमती लकड़ी ठूठों सहित रातों रात खुर्द बुर्द कर दी गई।

वही मामला उजागर होने पर पिछले 2 सप्ताह से वन अधिकारी और अवैध कटान कर्ता ओर उनके आका मामले को दबाने में जुटे हुए है। इस सबन्ध में जब सुकेत वन मण्डल के डीएफओ सुभाष पराशर से उनके सरकारी मोबाईल नम्बर 94180-62181 पर बार बार सम्पर्क साधा गया तो उन्होंने मोबाईल आऊट ऑफ रेंज कर दिया।

वहीँ कार्यलय में भी अनुपस्तिथ पाए गए हालांकि उच्च अधिकारी मामला संज्ञान में आने और कार्रवाही किए जाने की बात कर रहे है लेकिन अभी तक वन विभाग द्वारा कोई भी कार्रवाही नही की गई है।

वही जब बीएसएल पुलिस थाना के प्रभारी प्रकाश चन्द मिश्रा से इस बाबत बात की गई तो उन्होंने बताया कि वन विभाग की और से कोई भी शिकायत दर्ज नही करवाई गई है। पीडब्ल्यूडी विभाग ने ज्वाली -पंजोग सड़क निर्माण को कोई भी टेंडर/कुटेशन नही निकाली है ना ही कोई वर्क आर्डर दिया है।

-उपासना पटियाल,कंजर्वेटर ऑफ फारेस्ट मंडी
मुझे आज ही वन भूमि पर सड़क बनाने व पेड़ो के अवैध कटान की सूचना मिली थी।इस बाबत डीएफओ सुंदरनगर सुभाष पराशर से बात हुई है उन्होंने कार्रवाही करने की बात कही है।

-उपासना पटियाल,कंजर्वेटर ऑफ फारेस्ट मंडी
जाशन के बाद दाढ़ी अब सुंदरनगर के पंजोग ,ज्वाली में भारी पैमाने में अवैध कटान हुआ है।इसमें सीधे तौर पर सरकार के जन प्रतिनिधि शामिल है। मामले को दबाया जा रहा है।यदि एफआईआर दर्ज नही हुई और दोषियों के खिलाफ कार्रवाही नही हुई तो एनजीटी का दरवाजा खटखटाया जाएगा।